टेस्ट की कितनी सीरीज में चार अलग-अलग कप्तानों ने टीमों का किया नेतृत्व?

टेस्ट की कितनी सीरीज में चार अलग-अलग कप्तानों ने टीमों का किया नेतृत्व?

भारत और न्यूजीलैंड के बीच खेली गई दो टेस्ट मैचों की सीरीज में अजिंक्य रहाणे और केन विलियमसन ने कानपुर में हुए पहले टेस्ट में कप्तानी की। उसके बाद दूसरे टेस्ट मैच में विराट कोहली और टॉम लाथम ने मुंबई में हुए मुकाबले में क्रमशः भारत व कीवी टीम का नेतृत्व किया।

इस दो मैचों की सीरीज में चार कप्तानों ने कप्तानी की और यह केवल दूसरी दो टेस्ट मैच की सीरीज है, जिसमें चार कप्तान देखने को मिले। इससे पहले सन् 1888-89 में दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड के बीच दो मैच की टेस्ट सीरीज हुई थी। जिसमें ओवेन ड्यूनेल और ऑब्रे स्मिथ (बाद में एक प्रसिद्ध हॉलीवुड अभिनेता) ने पोर्ट एलिजाबेथ में हुए पहले और विलियम मिल्टन और मोंटी बाउडन ने केपटाउन में हुए दूसरे टेस्ट में कप्तानी की थी।

वहीं अगर देखा जाए तो कुल सात टेस्ट सीरीज में चार अलग-अलग कप्तानों ने कप्तानी की है। सन् 1926 में ऑस्ट्रेलिया की ओर से वॉरेन बार्डस्ले और हर्बी कॉलिन्स ने और इंग्लैंड की ओर से आर्थर कैर व पर्सी चैपमैन एक ही टेस्ट सीरीज में कप्तानी की थी।

सन् 1947-48 में वेस्टइंडीज की तरफ से जॉर्ज हेडली और गेरी गोमेज ने जबकि इंग्लैंड की ओर से केन क्रैन्स्टन और गब्बी एलन ने कप्तानी की थी। वहीं सन् 1961 में ऑस्ट्रेलिया के नील हार्वे और रिची बेनॉय और इंग्लैंड की ओर से कॉलिन काउड्रे व पीटर मे ने एक ही टेस्ट सीरीज में कप्तानी का जिम्मा संभाला था।

वर्ष 1968 में ऑस्ट्रेलिया के बिल लॉरी और बैरी जर्मन ने और इंग्लैंड के काउड्रे और टॉम ग्रेवेनी ने कप्तानी की थी। इस सीरीज में काउड्रे और लॉरी ने चोट से उबरकर अगले मैच में कप्तानी का पदभार संभाला था। सन् 1989-90 में इंग्लैंड के ग्राहम गूच व एलन लैम्ब ने और वेस्टइंडीज की ओर से डेसमंड हेन्स व विव रिचर्ड्स ने एक ही टेस्ट सीरीज में कप्तानी की थी।

साल 2001 में ऑस्ट्रेलिया की ओर से स्टीव वॉ व एडम गिलक्रिस्ट ने जबकि इंग्लैंड की ओर से माइक अथर्टन और नासिर हुसैन ने कप्तानी का जिम्मा संभाला था। वहीं साल 2014-15 में भारत की ओर से विराट कोहली व एमएस धोनी ने और ऑस्ट्रेलिया की ओर से एक ही टेस्ट सीरीज में माइकल क्लार्क और स्टीव स्मिथ ने कप्तानी की जिम्मेदारी निभाई थी।